Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

निविदायें और अधिसूचनाएं

समाचार एवं अद्यतन

अन्य जानकारी

यात्री सूचना

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
Achievements and Performance

  1.      विशेष सुधार/उपलब्धि:
 1. 31.03.2015 तक सभी मानव रहित समपारहटा दी गई
 1.2  2020-21 के दौरान बंद किए गए मानवयुक्त एलसी की संख्या  20 नग

  1.3     2020-21 के दौरान पुनर्वास पुलों की संख्या =37 संख्या

  1.4     2020-21 के दौरान स्थायी गति प्रतिबंध हटाना = 6 नंबर

  1.5     2020-21 के दौरान ट्रैक रेल नवीनीकरण = 49.74 कि.मी.

    1.6    वित्त वर्ष 2020-21 में कुल 44.095 किमी दोहरीकरण कार्य पूर्ण। (केयूआई-एसवीजी 26.99 किमी,           वाईएल-एएनके 14.55 किमी और एचजी-बीजेपी 2.555 किमी)।

 2.   पर्यावरण से संबंधित कार्य
सोलापुर मंडल पर एसटीपी (सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट), ऑटो-क्लोरिनेशन प्लांट की स्थिति
 2.1.एसटीपी (सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट) का प्रावधान - तीन नंबर हैं। एसटीपी संयंत्र को निम्नानुसार चालू किया 
    गया है:
· लातूर   - 15KLD क्षमता-संयंत्र 19.07.2020 को चालू किया गया
2.2.एसटीपी (सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट) - वर्तमान में, पांच नग। 15/50 केएलडी क्षमता के एसटीपी संयंत्र का   
    निष्पादन किया जा रहा है:
· अहमदनगर  - 50KLD क्षमता- कार्य प्रगति पर है।
· कोपरगांव15KLD क्षमता- कार्य प्रगति पर है।
· शिरडी     – 15KLD क्षमता- कार्य प्रगति पर है।
· सोलापुर    - 15KLD क्षमता- शीघ्र ही चालू की जा रही है।
·पुनर्नवीनीकरण पानी का उपयोग पीएफ, एप्रन और कैरिज धोने के लिए किया जा रहा है। साथ ही इस पानी   
का उपयोग बगीचों के रखरखाव के लिए किया जा रहा है
3. ऑटो-क्लोरीनेशन प्लांट - पेयजल की गुणवत्ता में सुधार के लिए संभाग के विभिन्न स्थानों/स्टेशनों पर 
कुल 80 ऑटो-क्लोरीनेशन प्लांट उपलब्ध कराए गए हैं।
4 सीआरएस निरीक्षण:
1.  येवला- अंकाई खंड के दोहरीकरण (कुल 15.13 किमी और सोलापुरमंडल का 14.55) का सीआरएस निरीक्षण
 14.09.2020 को किया गया सीआरएस प्राधिकरण पत्र संख्या सी -12 (230) / 2020/456 दिनांकित। 
 14.09.2020 को येवला- अंकाई नवनिर्मित बीजी खोलने की स्वीकृति प्रदान की गई। अधिकतम यात्रियों की
 सार्वजनिक ढुलाई के लिए दोहरीकरण की लाइन। 100 किमी प्रति घंटे की अनुमेय गति।    
2. 11.11.2020 को किया गया सावलगी-कुलाली खंड दोहरीकरण (26.99 किमी) का सीआरएस निरीक्षण प्राधिकरण पत्र 
संख्या सी -12 (234) / 2020/573 दिनांकित सीआरएस के माध्यम से किया गया। 12.11.2020 को सावलगी-कुलाली नवनिर्मित 
बी.जी. अधिकतम यात्रियों की सार्वजनिक ढुलाई के लिए दोहरीकरण की लाइन। 90 किमी प्रति घंटे की अनुमेय गति ।

यात्री सुविधाओं में सुधार:
1.  साईनगर शिरडी में - बैठने की व्यवस्था के साथ प्लेटफार्म नंबर 1 और 2 पर कवर, 3-सीटर बेंच, कोच 
    मार्गदर्शन प्रणाली आदि प्रदान की गई
2. अहमदनगर में - एस्केलेटर सहित 6 मीटर चौड़ा फुटओवर ब्रिज।
3. सोलापुर में - यात्री सुविधाओं का प्रावधान और परिसंचारी क्षेत्रों का विकासआदि और 6 मीटर चौड़ा   
   एफओबी प्रदान किया गया।
4. दौंड में 6 मीटर चौड़े एफओबी का विस्तार किया गया।
5. 8 स्टेशनों यानी एसजीएनडी, बीडब्ल्यूडी, वीपीआर, एसआरएल, वीएल, पीडीजीएन, सीआईटी,  
   केएनजीएन, वाईएल पर पूर्वनिर्मित दिव्यांग शौचालय उपलब्ध कराए गए।
6. लातूर - समर्पित आरसीसी एचएस टैंक के साथ एमजेपी स्रोत से लातूर स्टेशन तक 3.20 किलोमीटर 
डी.आई. पाइपलाइन का प्रावधान और यूजी सम्प का काम पूरा हुआ।
यात्री सुविधाओं की तस्वीरें - 2020-21 में पूर्ण कार्य। लिंक पर क्लिक करें:  https://cr.indianrailways.gov.in/uploads/files/1624011807638-SUR Photo 2020-21.pdf
सोलापुर मंडल द्वारा नवाचार - यांत्रिक ग्रीसिंग मशीन:

मध्य रेलवे के सोलापुर मंडल में एक यांत्रिक रेल गेज फेस ग्रीसिंग मशीन का नवाचार किया गया है। ट्रैक के व्यवस्थित अनुरक्षण मेंकर्व गेज चेहरों की ग्रीसिंग कर्व्स की डिग्री के आधार पर की जाती है। मैनुअल ग्रीसिंग कार्य के मामले मेंसमय की खपत अधिक होती है लेकिन उत्पादन कम होता है। लेकिननई विकसित ग्रीसिंग मशीन संचालन में बहुत सरल और बहुत ही कुशल है। एक व्यक्ति लगभग बाहर ले जा सकता है। 6 किमी/दिन ग्रीसिंगजबकि पहले मैनुअल वर्किंग आउटपुट लगभग था 1 से 1.5 किमी/दिन।


7. सोलापुर संभाग का आरटीआई प्राधिकरण विवरण:-

निम्नलिखित अधिकारियों को आरटीआई अधिनियम 2005 से निपटने के लिए नामित किया गया है-

1) अपीलीय प्राधिकारी = श्री शैलेन्द्र सिंह परिहार (एडीआरएम)

2) नोडल अधिकारी और सीपीआईओ = श्री प्रदीप हीराडे (सीनियर डीसीएम)

3) सीपीआईओ (इंजीनियरिंग विभाग) = श्री चंद्र भूषण (सीनियर डीईएन.सीओ)

आरटीआई आवेदन कैसे दाखिल करें: - आप दो तरह से आरटीआई आवेदन दाखिल कर सकते हैं:

1) ऑन लाइन मोड - ऑनलाइन आरटीआई पोर्टल के माध्यम से - (https://rtionline.gov.in)

2) ऑफ लाइन मोड - सीनियर डीसीएम कार्यालय में जमा किए जाने वाले मैनुअल आवेदन -

(पता - मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय, वाणिज्यिक शाखा, सोलापुर 413001.)

शुल्क- *आरटीआई आवेदन शुल्क 10/- रुपये है।

·गरीबी रेखा से नीचे के व्यक्तियों के लिए नि:शुल्क लागत।

भुगतान का प्रकार (सीनियर डीएफएम / सोलापुर के पक्ष में)

1) डिमांड ड्राफ्ट,

2) भारतीय पोस्टल ऑर्डर,

3) यूटीएस काउंटर मनी रसीद रु.10/-।


                    आरटीआई अनुरोध और अपील प्रबंधन सूचना प्रणाली

                                   (आरटीआई-एमआईएस)

दिनांक 01.04.2020 से 16.06.2021 तक डीआरएम/डब्ल्यू/ सोलापुरकार्यालय में प्राप्त 
आरटीआई ऑफ लाइन आवेदनों की संख्या
 
प्राप्त आवेदनों की संख्या

निपटाए गए आवेदनों की संख्या

अनिर्णीत

43
43
शून्य

दिनांक 01.04.2020 से 16.06.2021 तक डीआरएम/डब्ल्यू/सोलापुरकार्यालय में प्राप्त   
ऑनलाइन आवेदनों की संख्या
 
प्राप्त आवेदनों की संख्या

निपटाए गए आवेदनों की संख्या

अनिर्णीत
118
115
03


          





Source : CMS Team Last Reviewed on: 22-06-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.