Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

निविदायें और अधिसूचनाएं

समाचार एवं अद्यतन

अन्य जानकारी

यात्री सूचना (समय सारिणी)

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
General Information

1. इंजीनियरिंग विभाग की सामान्य जानकारी
1.1   सोलापुर मंडल का संक्षिप्त इतिहास 
1.1.1 सोलापुर मंडल में वर्तमान में शामिल हैं:
      बीजी लाइन: 1042.192 मार्ग किमी
1.1.2 विरासत:
 क) जी.आई.पी. रेलवे: पुणे से गंगापुर रोड और दौंड से मनमाड तक
) निज़ाम राज्य रेलवे: गाणगापूर रोड से वाडी
 ग) बारसी लाइट रेलवे: मिरज-कुर्दुवाड़ी-लातूर
1.1.3 मील के पत्थर:

a)

1858-1870

:

पुणे-वाडी मेन लाइन का निर्माण किया गया था।

b)

1878

:

दौंड-मनमाड मेन लाइन का निर्माण किया गया।

c)

1906-1911

:

बरसी लाइट रेलवे का निर्माण किया गया था।

d)

1914

:

दौंड-बारामती एनजी लाइन का निर्माण किया गया।

e)

1970

:

पुणे-दौंड सेक्शन को दोगुना कर दिया गया।

f)

1970

:

शाहाबाद-वाडी सेक्शन को दोगुना किया गया।

g)

1988-1989

:

शाहाबाद-गुलबर्गासेक्शनकोदोगुनाकियागया।

h)

1994

:

दौंड-बारामती लाइन को बी.जी. में बदला गया।

i)

1999

:

सोलापुर-होटगी सेक्शन को दोगुना किया गया(1997-1999).

j)

2001

कुर्दुवाड़ी-पंढरपुर लाइन को बी.जी में बदला गया।

k)

2002

:

दौंड-बिगवन खंड को में दोगुना कर दिया गया था

l)

2003

:

लातूर-लातूर रोड नया बीजी खंड दिसंबर 2003 में चालू

m)

2007

:

लातूर - उस्मानाबाद आमान परिवर्तन खंड अगस्त 2007 में चालू किया गया

n)

2007

:

अगस्त 2007 में सोलापुर-पकनी सेक्शन को दोगुना किया गया

o)

2008

:

मई 2008 में पाकनी-मोहोल सेक्शन हुआ दोगुना

p)

2008

:

जून 2008 में शुरू हुआ उस्मानाबाद-कुर्दुवाड़ी आमान परिवर्तन खंड

q)

2009

:

पुणतांबा-शिरडीनई लाइन (17 किलोमीटर) चालू हुई (20.02.2009)

r)

2011

:

पंढरपुर-मिरज गेज परिवर्तन फरवरी 2011में यात्री यातायात के लिए खोला गया

s)

2015

:

होडगी - बिजापुर लाइन 0.877 किमी सोलापुर डिवीजन तक बढ़ाई गई। द..रे. क्षेत्र से.

t)

2015

:

होडगी- तिलाटी अप लाइन 6.45 किलोमीटर चालू हुई15.03.2016.

u)

2016

:

मोहोल-वाकाव अप लाइन 22.49 किलोमीटर चालू हुई (05.02.2017).

v)

2017

:

अहमदनगर - नारायणदोह नई लाइन (12.275 किमी) को चालू किया गया (29.03.2017)

w)

2017

:

तिलाटी - अकलकोटअप लाइन13.88 किलोमीटर चालू हुआ (03.04.2017)

x)

2017

:

गुलबर्गा- सुल्तानपुर नई लाइन 11.90 कि.मी(29.10.2017)

y)

2017

:

वाकाव-वाडशिंगे अप लाइन 14.98 किलोमीटर चालू(19.03.2018)

z)

2018

:

अकलकोट -नागनसोर अप लाइन 5.12 किमी चालू हुई (27.05.2018)

aa)

2018

:

नागनसोर-बोरोटी अप लाइन 8.98 किलोमीटर चालू (05.10.2018)

ab)

2018

:

नारायणदोह -सोलापुरवाड़ी नई लाइन 23.265 किलोमीटर चालू(23.03.2019)

ac)

2019

:

वाडशिंगे- भालवनी अप लाइन 34.72 किलोमीटर चालू(22.08.2019)

ad)

2019

:

पुणे-दौंड-मनमाड कॉर्ड लाइन 1.258 कि.मी चालू(19.09.2019)

ae)

2019

:

कोपरगांव-येवलाअप लाइन 13.613 किलोमीटर चालू (04.10.2019)

af)

2019

:

गुलबर्गा  - सावलगी अप लाइन 13 किलोमीटर चालू(26.11.2019)

ag)

2020

:

बोरोटी -कुलाली अप लाइन23.49 किलोमीटर चालू हुआ (25.02.2020)

ah)

2020

:

होडगी- बिजापुरअपलाइन 2.555 कि.मी. को चालू किया गया(10.08.2020)

ai)

2020

:

येवला- अंकाई अप लाइन 15.13 किलोमीटर कुल और 14.55 सोलापुर मंडल को चालू किया गया(14.09.2020)

aj)

2020

:

कुलाली- सावलगीअपलाइन 26.99 किलोमीटर चालू (12.11.2020)

ak)

2021

:

भालबनी-वाशिम्बे 26.33 किमी अप लाइन 27.10.2021 को चालू की गई

al)

2021

:

सोलापुरवाड़ी - आष्टी 30.649 किलोमीटर नई लाइन चालू को 31.12.2021  

1.2     सांख्यिकीय डेटा:
 1.2.1  मार्ग किलोमीटर:       B.G.     1042.192 Km. As on 28.02.2022           
 1.2.2  ट्रैक किलोमीटर:       B.G.     1391.507 Km. As on 28.02.2022
   




Source : CMS Team Last Reviewed : 10-03-2022  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.