Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

निविदायें और अधिसूचनाएं

समाचार एवं अद्यतन

अन्य जानकारी

यात्री सूचना

हमसे संपर्क करें

हमारे बारे में
   मुख्यालय
      यांत्रिक
         कारखाना
            माटुंगा
               About us


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
About us

संक्षिप्त परिचय
माटुंगा कारखाने की स्थापना वर्ष 1915 में ब्रॉड–गेज और नेरो गेज़ के कोचो तथा ग्रेट इंडियन पैनिसुलर    जी.आय.पी. के माल डिब्बो की मरम्मत कार्य के लिये हुई थी I  कारखाने  का विस्तार त्रिभुजाकर में 85 एकड़ जमीन पर है जिसमें से 35 एकड़ जमीन आच्छादित हैI 
कारखाना  पुर्व में मध्य रेल उपनगरीय गलियारे तथा पश्चिम रेल गलियारे तक फैला हुआ है I तब से अब तक कारखाने की क्षमता और विकास में समय-समय पर वृद्धि होती गई I कारखाने का प्रतिमाह उत्पादन का वर्तमान लक्ष्य 149 नॉन ए.सी. कोचें 36 ए.सी. कोचें, 7.5 एल.एच.बी. का पी.ओ.एच. और 99 ई.एम.यू. कोचों का पी.ओ.एच. करने का है I 
दिसंबर 2018 से माटुंगा कारखाने में एल.एच.बी. कोचों का शेडयूल अनुरक्षण प्रारम्भ किया गया है I माटुंगा कारखाने को रेलों में सर्वप्रथम सी.एन.जी. गैस का औद्योगिक उपयोग प्रारम्भ करने पर गर्व हैI 
माटुंगा कारखाने को आय.एस.ओ. 50001, आय.एस.ओ.3834, 5 एस., ग्रीन को-रेटिंग प्रमाण पत्र तथा एन.ए.बी एल., आय.एस.ओ., आय.ई.एस.17205:2005 आदि प्रमाण पत्र प्राप्त हुए है I 
माटुंगा कारखाने के प्रधान मुख्य कारख़ाना प्रबन्धक है I उनकी सहायता के लिए यांत्रिक, विद्युत तथा      ई.एम.यू. विभाग के पाँच कनिष्ठ ग्रेड के अधिकारी जैसे उप.मुख्य यांत्रिक इंजीनियर(मरम्मत),  उप.मुख्य यांत्रिक इंजीनियर (उत्पादन), उप मुख्य यांत्रिक इंजीनियर(ई.एम.यू.), उप मुख्य विद्युत इंजीनियर(सामान्य), उप मुख्य विद्युत इंजीनियर( ई.एम.यू.)  है I मुख्य कारख़ाना प्रबंधक की सहायता के लिए उप मुख्य  कार्मिक अधिकारी तथा कार्यकारी इंजीनियर भी कार्यरत हैI 
वर्तमान के मुख्य कारख़ाना प्रबन्धक श्रीमती अंजलि सिन्हा है I जो पहली महिला मुख्य कारख़ाना प्रबन्धक  है I 
माटुंगा कारखाने से भंडार विभाग भी जुड़ा है और इसके प्रधान उप. मुख्य सामग्री प्रबन्धक है I इसके अतिरिक्त सानपाड़ा ई.एम.यू.(पी.ओ.एच.) कारख़ाना भी मुख्य कारख़ाना प्रबन्धक माटुंगा के प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन है I

वर्तमान कार्य
1) बी.जी.,ए.सी. कोचों का पी.ओ.एच कार्य I2)ए.सी. कोचों की साज - सज्जा का कार्य I3)बी.जी., नॉन-ए.सी. कोचों का पी.ओ.एच. कार्य I4)नॉन -ए.सी. कोचों की साज-सज्जा का कार्य I 5)कोचों का एन.पी.ओ.एच. कार्य I6)बी.जी. एवं नॉन-बी.जी. कोचों का जंग-संरक्षण (हैवी कोरोजन) मरम्मत कार्य I7)बी.जी., ई.एम.यू. कोचों का पी.ओ.एच. कार्य I8)ई.एम.यू. कोचों का मिडलाईफ पुनर्वसन कार्य I9)मंडलों को सभी प्रकार के पहियों की आपूर्ति का कार्य I10) मंडलों को आय.ओ.एच. बोगियों (आय.सी.एफ.)  की आपूर्ति कार्य I11) मंडलों को ओवरहाल्ड डी.वी. की आपूर्ति कार्य I12) मंडलों को कोचिंग रोलिंग स्टॉकों के अवयवों की अनुरक्षण हेतु आपूर्ति कार्य I13) विशेष लक्जरी ट्रेनों जैसे डेक्कन ओडिसी कोच, इंपेक्ट इंडिया का पी.ओ.एच. कार्य I14) ई.एम.यू और मेनलाइन कोचों का संशोधन (सुधार) कार्यI15) एल.एच.बी. कोचों का एस. एस. 2/3 कार्य I 

माटुंगा कारखाने की उपलब्धियां 
  • 12 अप्रैल वर्ष 1906 - दादर से माटुंगा  के मध्य स्थित दलदली जमीन को माटुंगा कारखाने के निर्माण के लिए प्राप्त करने के प्रस्ताव तैयार कर प्रस्तुत किया गया था I
  •  वर्ष 1911 - रेल्वे बोर्ड द्वारा सवारी व माल डिब्बा कारख़ाना माटुंगा की स्थापना का प्रस्ताव स्वीकृत किया गया I उस समय इस दलदली जमीन की कीमत रु. 7,93,213/- थी I कारखाने तथा कर्मचारियों के लिए आवास के निर्माण पर लागत रु.15,35,285/- आनी थी I 
  •  वर्ष 1915 - ग्रेट इंडियन पैनिसुलर रेल्वे के माल तथा सवारी डिब्बों की मरम्मत हेतु कारखाने की स्थापना हुई I
  • वर्ष 1918-19 - पहली सेल चार्जिंग वैन का निर्माण I 
  • वर्ष 1919-20 - माल डिब्बा का निर्माण कार्य आरंभ I  
  • वर्ष 1919-20 - प्रथम संरक्षा उपाय के तहत बॉडी साइड विंडो बार का प्रावधान करना आरंभ I
  •  वर्ष 1932-33 - मानक डिज़ाइन के अनुरूप प्रथम श्रेणी, सर्वेंट और रेस्टोरेंट का निर्माण आरंभ I
  • वर्ष 1937 - प्रथम ए.सी. कोच का निर्माण I
  • वर्ष 1939-40 - रक्षा विभाग के लिए मोटर ट्रौली का निर्माण I  
  • वर्ष 1941-42 से विदेशी कोचों का निर्यात का आरंभ I
  • वर्ष 1941-42 - रक्षा विभाग के लिए 12 बी.जी. कोचों को एंबुलेंस ट्रेन क्रमांक 27 में परिवर्तित किया गया I
  • वर्ष 1949-50 - मोटर कोचों को डबल देकर कोचों में परिवर्तित करने का कार्य आरंभ I
  • वर्ष 1953 - कुर्ला में माटुंगा कारखाने के प्रशासनिक नियंत्रण में ट्रेक वेगन मरम्मत कारख़ाना आरंभ I
  • वर्ष 1954 - इस वर्ष दिसंबर में संघीय गणतन्त्र युगोस्लावाकिया के राष्ट्रपति मार्शल टिटो के आगमन के अवसर पर विशेष कोच की व्यवस्था I   
  • वर्ष 1955 - भारत में अपनी  तरह की पहली ए.आर.टी. का निर्माण किया गया जिसमें स्वत: का आपरेशन थियेटर और अत्याधुनिक चिकित्सा उपकरण उपलब्ध है I
  • वर्ष 1956-57 - भारत के राष्ट्रपति हेतु ए.सी. ट्रिवन कार कोच क्रमांक 9000 और 9001 का निर्माण I
  • वर्ष 1960 - बुनियादी प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना I
  • वर्ष 1963-64 - एम.सी. ग्रेगोर स्लांडिंग तथा ओपन वैगन के लिए सिलेन्डर प्रकार की स्वीनिंग रूफ अटैचमेंट को विकसित किया गया I
  • वर्ष 1982 -ई.एम.यू.(पी.ओ.एच.) कार्य प्रणाली आरंभ I
  • वर्ष 1991-92 - रेल्वे पर अस्पताल के तौर पर प्रयोग में लाए जाने हेतु 03 कोचों को ‘’जीवन-रेखा’’ ट्रेन में परिवर्तित किया गया I
  • 7 फरवरी वर्ष 1995 - माटुंगा कारखाने द्वारा सज्जित की गयी कोच प्रथम डी.एम.यू. डीजल पुश पुल ट्रेन दिवा से वसई के मध्य चलाई गयी I
  • वर्ष 2002-03 - भारतीय रेल की 150वीं वर्षगांठ के अवसर पर 08 प्राचीन कोचों की मरम्मत I
  • वर्ष 2007-08 दौरान 12 माह के अवधि वाली पी.ओ.एच. के स्थान पर 18 माह की अवधि वाली पी.ओ.एच. तकनीक अपनाई I
  • वर्ष 2013 - अमरावती एक्सप्रेस के लिए प्रथम रिफ्रविश्ड रेक तैयार किया गया I
  • वर्ष 2013 - अपनी तरह की प्रथम मेडिकल रिकवरी वैन तैयार की गई I इस कोच में आधुनिक मेडिकल उपकरण उपलब्ध है I लगातार विद्यूत आपूर्ति हेतु जनरेटर का प्रावधान भी किया गया I 2,01,304 कोचों को ग्रीन टॉयलेट में परिवर्तित किया गया I
  • वर्ष 2014 - बायो टॉयलेट टैंक लगाना आरंभ किया I 
  •  वर्ष 2015 - पहली बार द्वितीय ए.सी. कोच में वैक्यूम फ्लशिंग प्रणाली सहित ट्रिवन टॉयलेट का प्रावधान किया I
  • वर्ष 2016 - माटुंगा कारखाने के 100 वर्ष पूर्ण होने के उपक्ष्य में आयोजित शताब्दी उत्सव समारोह में आदरणीय एम.आर. उपस्थित हुए I
  • वर्ष 2016 - उपनगरीय ट्रेनों के 10 रैकों में महिला कोचों मॆं  सी.सी.टी.वी. लगाए गये I
  • वर्ष 2016 - सी-मैन ट्रेक्शन मोटरों के लिए ओवर हौलिंग के सुविधा विकसित की गई I
  • वर्ष 2017 - मार्च माह में  20 किलोवाट का सोलर प्लांट स्थापित किया गया I
  • वर्ष 2017 - प्रोटोटाइप बायो टैंक  के डिज़ाइन में संशोधन कर डेक्कन ओडिसी कोचों की सभी टॉयलेट में बायो टैंक लगाए गए I
  • वर्ष 2017 - ए.सी. कोच टॉयलेट के अंदर से आने वाली बदबू को दूर करने के लिए ए.सी. कोच टॉयलेटों में संशोधन किया गया I
  • वर्ष 2017 में माटुंगा कारखाने को आय.एस.ओ 50001,  आय.एस.ओ.3834, 5 एस तथा ग्रीन को-रेटिंग प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ I
  • वर्ष 2018 में माटुंगा कारखाने द्वारा डी.ई.एम.यू. कोचों को सेल्फ प्रोपेल्ड इन्स्पेक्शन कार सी.आर.15403 में परिवर्तित किया गया I
  • वर्ष 2018 में माटुंगा कारखाने ने स्वयं के संसाधनों से स्वचालित और डिजिटल डी.वी. टेस्ट बेंच के डिज़ाइनिंग विकास साज-सज्जा कर उसे स्थापित किया I 
  • वर्ष 2018 में माटुंगा कारखाने ने एन.ए.बी.एल, आय.एस.ओ., आय.ई.एस.17208:2005 प्रमाण पत्र प्राप्त किया I
  • वर्ष 2018 में माटुंगा कारखाने द्वारा एस.एस. 2 शेड्यूल पूर्ण कर दिनांक 05-01-2019 को पहली एल.एच.बी. कोच तैयार की I

माटुंगा कारखाने में प्रथम 

  • वर्ष 1993-94 में पहली बार बोगी माउंटेड एअर ब्रेक प्रणाली आरंभ I
  • वर्ष 1998 में पहली बार “ ई.एम.यू.’’ कोचों का पुनर्वसन कार्य आरंभ I 
  • वर्ष 2001 में माटुंगा कारखाने ने भारतीय रेलों में सर्वप्रथम “आय.एस.ओ. 9001’’ प्रमाण पत्र प्राप्त किया I
  • वर्ष 2002 में माटुंगा कारखाने ने भारतीय रेलों में सर्वप्रथम “आय.एस.ओ. 14001’’ प्रमाण पत्र प्राप्त किया I
  • वर्ष 2002 में माटुंगा कारखाने ने सर्वप्रथम मेल/एक्सप्रेस रेकों को एअर-ब्रेक सिस्टम में परिवर्तित किया I
  • वर्ष 2003 में माटुंगा कारखाने ने भारतीय रेलों  में सर्वप्रथम किसी  अन्य इकाई “कल्याण फ्रेट डिपो’’  को “आय.एस.ओ. 9001‌‌-2000’’ प्रमाण पत्र हेतु परामर्श प्रदान किया I
  • वर्ष 2003 में माटुंगा कारखाने ने पूरे मध्य रेल में सर्वप्रथम प्रोत्साहन भत्ता पाने वाले कर्मचारियों को “ई.सी.एस.’’ के माध्यम से वेतन प्रदान किया I
  • वर्ष 2004 भारतीय रेलों में माटुंगा कारखाने ने सर्वप्रथम बोगी की सफाई ग्रिट ब्लास्टिंग द्वारा आरम्भ की तथा रोलिंग स्टॉकों  के सुरक्षा मानकों में  सुधार किया I
  • वर्ष 2008- भारतीय रेलों में माटुंगा कारखाने ने सर्वप्रथम अनारक्षित कोचों में कुशन लगाने का कार्य आरंभ कर जनवरी, 2011 तक इस कार्य को पूर्ण कर लिया I
  • वर्ष 2011- भारतीय रेलों में माटुंगा कारखाने ने सभी कोचों में बोगी माउन्टेड एअर ब्रेक सिस्टम लगाने का प्रावधान किया I
  • वर्ष 2017 - भारतीय रेलों में माटुंगा कारखाने ने सर्वप्रथम सी.एन.जी.  को उपयोग में लाने का कार्य आरंभ किया I  
  • वर्ष 2018 - भारतीय रेलों में माटुंगा कारखाने ने पहली बार दीवारों पर वर्टिकल गार्डन  लगाएI  
  • भारतीय रेलों में सर्वप्रथम कारखाने ने व्यावसायिक स्वास्थ्य और सुरक्षा प्रबंधन क्रियान्वयन प्रणाली का  आय.एस.ओ. 45001:2018 प्रमाण पत्र प्राप्त किया I




Source : CMS Team Last Reviewed on: 15-07-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.